कांग्रेसी नेता व सांसद शशि थरूर ने लाहौर लिटरेचर फेस्टिवल में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हिस्सा लेते हुए

कांग्रेसी नेता व सांसद शशि थरूर ने लाहौर लिटरेचर फेस्टिवल में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हिस्सा लेते हुए

कांग्रेसी नेता व सांसद शशि थरूर ने लाहौर लिटरेचर फेस्टिवल में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हिस्सा लेते हुए

कांग्रेसी नेता व सांसद शशि थरूर ने लाहौर लिटरेचर फेस्टिवल में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हिस्सा लेते हुए

भारत की आलोचना की और पाकिस्तान की प्रशंसा की। शशि थरूर के इस बयान से कांग्रेसियों की मंशा स्पष्ट होती है कि वह भारत के प्रति अपना किस प्रकार का नजरिया रखते हैं। भाजपा नेता गोपाल शर्मा ने शशि थरूर के बयान को देश विरोधी बताया तथा कहा कि यदि शशि थरूर को भारत से बेहतर पाकिस्तान लगता है तो वह पाकिस्तान में क्यों नहीं चले जाते, भारत में रहते हैं, भारत का खाते हैं, नाम, पहचान, मान-सम्मान भारत से पाते हैं और पाकिस्तान के गुण गाते हैं ऐसे भारत विरोधी व्यक्ति को भारत में रहने की अनुमति नहीं मिलनी चाहिए। पूरी कांग्रेस पार्टी समय-समय पर भारत विरोधी बयान देती रहती है, कभी पार्टी के मुखिया राहुल गांधी की जुबान फिसल जाती है तो कभी शशि थरूर जैसे कांग्रेसी नेताओं की जुबान फिसल जाती है इससे कांग्रेसियो की देश विरोधी मानसिकता स्पष्ट होती है। कांग्रेस पार्टी के अंदर यह सिलसिला चलता रहता है। राहुल गांधी को अपना नाम राहुल लाहौरी रख लेना चाहिए। शशि थरूर ने तबलीगी जमात पर भारत सरकार के द्वारा की गई कार्यवाही को भेदभाव पूर्ण बताया जबकि पूरा देश जानता है कि भारत के अंदर कोरोना जैसी गंभीर महामारी की शुरुआत और देश के अंदर फैलाव तबलीगी जमात के आधार पर ही हुआ था, देश व देश के नागरिक सुरक्षित रहें इसके लिए यदि सरकार ने भीड़ को एकत्रित होने से रोका तो यह देश व देश के नागरिकों के हित के लिए ही किया, इसमें सिर्फ तबलीगी जमात के लोगों को ही नहीं रोका गया बल्कि जो भी लोग भीड़ के रूप में एकत्रित हुए उन सभी लोगों को रोका गया लेकिन शशि थरूर जैसे राष्ट्र विरोधी नेताओं को सिर्फ तबलीगी जमात ही दिखाई दी। जिस प्रकार से शशि थरूर ने पूर्वोत्तर के लोगों की अलग शक्ल के कारण उनसे भेदभाव जैसी बातें कहकर भारत को कटघरे में खड़ा किया है इससे भी उनकी मंशा स्पष्ट होती है कि वह किस प्रकार भारत के लोगों को शक्ल, रंग,ऊंच-नीच व जाति के आधार पर बांटना चाहते हैं जबकि पूरी दुनिया जानती है कि भारत के अंदर भिन्न-भिन्न शक्ल, रंग व संस्कृति के लोग रहते हुए भी अनेकता में एकता के आधार पर रहते हैं और सभी एकजुट होकर राष्ट्र के उत्थान की चिंता करते हैं। गोपाल शर्मा ने कहा कि जिस प्रकार शशि थरूर ने कोरोना काल में भारत के प्रबंधन को विफल बताया इससे स्पष्ट होता है कि उनका मानसिक विकास भी शायद ठीक से नहीं हुआ है और ना ही वह कोरोना कॉल में भारत की स्थिति की ठीक प्रकार से जानकारी रखते हैं। भारत सबसे अधिक रिकवरी रेट और सबसे कम मृत्यु दर वाला देश है और भारत ने 150 देशों को हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन दिया है यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है और भारत के लिए व भारत के नागरिकों के लिए एक बड़ी जीत व बड़े गर्व का विषय है। गोपाल शर्मा ने कहा कि शशि थरूर को पाकिस्तान की नागरिकता लेकर पाकिस्तान में बस जाना चाहिए और वहीं से चुनाव लड़ना चाहिए ताकि उन्हें जमीन नजर आए और भारत- पाकिस्तान के बीच का सही अंतर समझ में आए। कांग्रेस पार्टी के अनेक नेता समय-समय पर राष्ट्र को खंडित करने वाले बयान देते रहते हैं जिससे कांग्रेस पार्टी की राष्ट्र के प्रति मंशा स्पष्ट होती है इन सारे बेतुके बयानों को देश की जनता देख रही है और सुन रही है जिसका उत्तर समय आने पर जनता के द्वारा दिया जाएगा।
भवदीय – गोपाल शर्मा
भारतीय जनता पार्टी मेरठ

Leave a Reply

%d bloggers like this: