कोरोना वायरस के चलते चीन और अमेरिका में दरार

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ट्वीट कर कोरोना वायरस को चीनी  वायरस कहा इस पर चीन ने नाराजगी जताई है। 

चीनी विदेश मंत्रालय के परवक्ता ने अमेरिका को  चेतवानी देते हुए कहा चीन को भला बुरा कहने से पहले वो इस वायरस से अपने लोगो को बचाये उनकी सुरक्षा का ध्यान रक्खे। कोविड -19 का पहला मामला साल 2019 के आखिर में चीन के वुहान शहर से मिला था।

ऐसे ही पिछले सप्तहा चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कोरोना वायरस को अमेरिकी साजिस बताते हुए , अमेरिकी सेना पर आरोप लगाया था और कहा था इस वायरस को अमेरिका  चीन में लेकर आया है।

इस पर अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा था के चीन झूठी खबर दुनिया में न फैलाये।

पूरी दुनिया में अबतक कोरोना वायरस से संक्रमित एक लाख 70 हजार लोगो की पुष्टि हुई है , जिसमे से 80 हजार लोग चीन  के हैं।

हालांकि चीन ने बताया है के उसके यहाँ केवल नए कोरोना वायरस से पीड़ित लोगो का पता चला है।

वही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने बीते सोमवार को ट्वीट कर कोविड -19 वायरस को चीनी वायरस कहा था। 

‘डब्लू एच् ओ’ ने इसपर कहा है और चेतवानी दी है इस वायरस को किसी समूह या किसी कंट्री से जोड़ना गलत बात है।

हलाकि अमेरिका की कई बड़ी बड़ी हस्तियां  वायरस को वुहान वायरस बता चुके है जो कि गलत है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: