मेरठ में शुरू हुई घर – घर कोरोना मरीजों की खोज। 700 से ज्यादा टीमें उतरी मैदान में।

मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ में अब कोरोना (COVID-19) के संदिग्ध मरीज़ों की खोज घर-घर शुरू हो गई है. जिला प्रशासन ने इस संबंध में 700 से ज्यादा टीमों को मैदान में उतार दिया है, जो गांव-गांव, गली-गली संदिग्ध मरीजों को ढूंढ़ रही हैं. टीम में लेखपाल, आशा वर्कर, एएनएम आदि भी शामिल हैं. अब तक के सर्च अभियान में कई लोग संदिग्ध पाए गए हैं. इसमें किसी को बुखार तो किसी को कोई अन्य शिकायत है. ऐसे लोगों को घरों में रहने के निर्देश दिए गए हैं.

मृत्यु दर में कमी लाने के लिए शुरू किया गया एक्टिव केसेज सर्च अभियान: डीएम
मेरठ के  डीएम ने कहा है कि मृत्यु दर में कमी लाने को लेकर एक्टिव केसेज़ सर्च का ये अभियान चलाया जा रहा है. गौरतलब है कि मेऱठ में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 43 हो गया है. मेऱठ में लगातार कोरोना से बढ़ते मौतों को देखते हुए शासन की तरफ से ओएसडी डॉ वेद प्रकाश ने भी कहा था कि गंभीर मरीज़ अगर चपेट में आएंगे तो मौत का आंकड़ा बढ़ेगा. ऐसे में गंभीर रोगियों को वायरस की चपेट में आने से रोकना होगा।

अब एक घंटे में मिलेगी कोरोना जांच रिपोर्ट
गौरतलब है कि मेरठ में कोरोना के मरीज़ों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है. ऐसे में घर-घर सर्च अभियान का ये प्रयास कारगर साबित हो सकता है. इस बीच एक और खबर ये है कि मेरठ में कोरोना जांच की रिपोर्ट अब एक घंटे में पता चल जाएगी. एक घंटे में पता चल जाएगा कि सैंपल की टेस्ट रिपोर्ट पॉज़िटिव है या निगेटिव. मेरठ के प्यारेलाल ज़िला अस्पताल में एक ट्रू नाट मशीन लग गई है और आने वाले हफ्ते में 2 और मशीनें लगाई जाएंगीं. एक ट्रू नाट मशीन एक घंटे में 50 सैंपल की रिपोर्ट बता सकती है.

हेल्पलाइन नंबर पर कभी भी करें संपर्क
मेरठ में अब मरीज़ों को इलाज की सुविधा तत्काल दिलाने के लिए एक हेल्पलाइन नम्बर भी जारी किया गया है. जि़लाधिकारी का कहना है कि अगर किसी भी हॉस्पिटल जाने पर भी मरीज़ को इलाज न मिले तो वो 0121-2662244 पर चौबीस घंटे में कभी भी फोन कर सकता है. मरीज़ को फौरन इलाज मिलेगा.

Leave a Reply

%d bloggers like this: