गंगा विचार मंच जनपद मेरठ ईकाई द्वारा गंगा स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत श्री वैंक्टेश्वरा विश्वविद्यालय मेरठ एवं गंगा विचार मंच जनपद मेरठ ईकाई के संयुक्त तत्वाधान में ’’गंगा स्वच्छता विचार गोष्ठी – गंगा काव्य

संध्या’’ व गंगा व गंगा की सहायक नदियों की स्वच्छता संबंधित संकल्प पत्र पर हस्ताक्षर अभियान का शुभारंभ किया गया

पर्यावरण संरक्षण/संवर्धन को समर्पित ’’पर्यावरण प्रहरी’’ पुस्तक का विमोचन विश्वविद्यालय के प्रति कुलाधिपति डा राजीव त्यागी, गंगा विचार मंच के पं. उत्तर प्रदेश संयोजक श्री चंदप्रकाश चौहान, लोकेश कुमार शर्मा, आचार्य चन्द्रशेखर शास्त्री, डाॅ0 सरोजनी ’’तन्हा’’, डाॅ0 विजय पंडित, पूनम पंडित, डा रामगोपाल भारतीय, श्री डोरीलाल भास्कर, श्रीमति अलका गुप्ता, डाॅ0 ईश्वरचन्द्र ’’गम्भीर’ , युवा कवि नीरज राजपूत’ की गरिमामयी उपस्थिति में किया गया ।

संस्थान के स्टाफ व छात्र छात्राओं व आमंत्रित साहित्यिक व सामाजिक विभूतियों ने फूलो की होली खेलकर ’’पर्यावरण व जल संरक्षण’’ का संदेश दिया ।

इस अवसर पर उपस्थित जनसमूह को ’’स्वच्छ गंगा-निर्मल गंगा एवं पाॅलिथीन मुक्त भारत’’ की शपथ भी दिलायी गयी।

वेंक्टेश्वरा संस्थान के टैगोर भवन स्थित सभागार में आयोजित ’’गंगा स्वच्छता विचार गोष्ठी व काव्य संध्या’’ एवं ’’पर्यावरण प्रहरी’’ पुस्तक विमोचन समारोह’’ का शुभारम्भ वेंक्टेश्वरा समूह के चेयरमैन डाॅ0 सुधीर गिरि, प्रतिकुलाधिपति डाॅ0 राजीव त्यागी, कार्यक्रम अध्यक्ष आचार्य चंद्रशेखर शास्त्री, मुख्य अतिथि गंगा विचार मंच , नमामि गंगे परियोजना (जल शक्ति मंत्रालय, भारत सरकार) यू0पी0 के संयोजक श्री चन्द्रप्रकाश चौहान, सामाजिक कार्यकर्ता श्री लोकेश कुमार शर्मा, गंगा विचार मंच जनपद मेरठ संयोजक डाॅ0 विजय पंडित, पूनम पंडित, डा सरोजिनी तनहा, डा रामगोपाल भारतीय, श्री डोरीलाल भास्कर, श्रीमति अलका गुप्ता, श्री अनिल गुप्ता, श्री नितीश कुमार राजपूत, डा विशाल शर्मा, श्री संजीव कुमार शर्मा, गंगा विचार मंच से श्री रजत शर्मा, आदि ने सरस्वती माँ के सन्मुख दीप प्रज्वल्लित किया ।

युवा कवि नितीश राजपूत ने ने माहौल को प्रेम रस से सरोबार करते हुए हुए कहा कि
’’ प्रेम को ढाई अक्षर का कैसे कहें, प्रेम सागर से गहरा है नभ से बड़ा प्रेम होता है दिखता नहीं है,
मगर प्रेम की ही धुरी पर यह जग है खड़ा’ सुनाकर खूब बाहवाही लूटी।

डाॅ0 सरोजिनी ’’तन्हा’’ ने होली के रंगो पर यूं कहा
’’रंगो में घुली लड़की क्या लाल गुलाबी है, सब देख के कहते है क्या गाल गुलाबी है।
जो पिछले बरस तूने होली पे भिगोया था, अब तक तो निशानी का रुमाल गुलाबी है।

प्रसिद्ध कवि डाॅ0 ईश्वरचन्द्र ’’गम्भीर’’ ने मातृशक्ति को नमन करते हुए कहा कि नमन तुझे नारी बारम्बार, नमन तुझे नारी बारम्बर, तुझसे घर परिवार ही क्या, चलता सारा संसार’’।

मुख्य अतिथि गंगा विचार मंच के उत्तर प्रदेश संयोजक श्री चंदप्रकाश चौहान ने सभी को गंगा स्वच्छता पखवाड़े और गंगा विचार मंच के उद्देश्यों को विस्तार से बताया
सामाजिक कार्यकर्ता श्री लोकेश शर्मा ने सभी को पर्यावरण संरक्षण के प्रति प्रेरित किया
साहित्यकार व आध्यात्मिक गुरु आचार्य चन्द्रशेखर शास्त्री ने वेद पुराणों व सनातन संस्कृति में गंगा नदी का महत्व बताया,
डाॅ0 विजय पंडित आदि ने कहा कि आज गंगा के उद्घार के लिए एक नहीं बल्कि अनेक भगीरथों की आवश्यकता है

प्रतिकुलाधिपति डाॅ0 राजीव त्यागी ने सभी अतिथियों को शाॅल एवं सम्मान पत्र भेट कर सम्मानित किया।
कार्यक्रम का संचालन डा रामगोपाल भारतीय द्वारा किया गया ।

इस अवसर पर कुलपति प्रो0 (डाॅ0) पी0के0 भारती, कुलसचिव डाॅ0 पीयूष पाण्डे, परिसर निदेशक डाॅ0 प्रभात श्रीवास्तव, उपनिदेशक दूरस्थ शिक्षा अलका सिंह, रजिस्ट्रार श्री विकास कौशिक, डाॅ0 संजय तिवारी, श्री विश्वास त्यागी, श्री ब्रजपाल सिंह, मीडिया प्रभारी श्री विश्वास राणा आदि लोग उपस्थित रहे।

Total Page Visits: 132 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: