अगले 5 महा तक 80 करोड़ लोगो को मुफ्त मिलेगा अनाज , 602 कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल भी किये गए तैयार

दिल्ली रिपोर्ट : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि देश में कोरोना से निपटने के लिए अब तक 602 कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल बनाया जा चुका है। इसमें तीन लाख से ज्यादा बेड हैं। सभी अस्पतालों में आईसीयू और वेंटिलेटर की सुविधा है। देश में चिकित्सा सुविधाओं को काफी तेजी से बढ़ाया जा रहा है। मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि इंडियन कोस्टल नेटवर्क और ऑनलाइन फार्मा मेडिकल कंपनियों के साथ मिलकर देश के सभी राज्यों में मेडिकल उपकरण पहुंचाए जा रहे हैं। अग्रवाल ने बताया कि पीएम मोदी ने तीन मई तक लॉकडाउन बढ़ा दिया है। ऐसे में 20 अप्रैल तक देश के सभी जिलों का मूल्यांकन होगा। इसमें देखा जाएगा कि उन्होंने किस प्रकार कोरोना से निपटा है। लोग सरकार के नियमों का पालन कर रहे हैं या नहीं। इसका सही ढंग से पालन करने वाले को सहूलियत दी जाएगी। जहां पर इसका पालन सही ढंग से नहीं किया जाएगा वहां पर सहूलियत नहीं दी जाएगी।

पांच महीने तक 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज दिया जाएगा
गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पीएस श्रीवास्तव ने बताया कि लॉकडाउन बढ़ने पर भी लोगों को परेशानी नहीं होने दी जाएगी। 80 करोड़ लोगों को अगले पांच महीने तक बिल्कुल मुफ्त अनाज दिया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकारों को निर्देश दिया गया है। 13 अप्रैल तक एफसीआई ने 22 लाख मिट्रिक टन अनाज  राज्यों और केंद्र शासित राज्यों को दे दिया है। अगर किसी को भी कोई समस्या है तो वह गृह मंत्रालय के कंट्रोल रूम में संपर्क कर सकता है। अभी तक 5000 शिकायतों का समाधान किया गया है। श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने देश भर में 20 शिकायत केंद्र बनाया गया है। इनकी निगरानी मुख्य श्रम आयुक्त कर रहे हें। यहां मजदूर अपनी समस्या की शिकायत कर सकते हैं। उनका तुरंत निस्तारण किया जाएगा।

33 लाख टेस्टिंग किट का ऑर्डर दिया

  • आईसीएमआर के मुताबिक सरकार ने 33 लाख टेस्टिंग किट के लिए आर्डर किए हैं। ये किसी भी वक्त मिल सकते हैं। देश में अगले छह हफ्ते की जांच के लिए हमारे पास पर्याप्त किट मौजूद हैं।
  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, पूरी दुनिया में सोमवार को 74 हजार मामले सामने आए जबकि भारत जैसे बड़े देश में 1211 मामले और 31 मौतें रिपोर्ट हुई हैं। यह हमारे लिए राहत की बात है।
  • आईसीएमआर ने देश में कम टेस्टिंग होने के आरोपों को खारिज किया। कहा, टेस्टिंग के लिए गाइडलाइन्स बने हैं। जो चाहेगा उसका टेस्ट होगा। यह कहना सही नहीं होगा कि हमारे देश में अन्य देशों के मुकाबले टेस्टिंग की क्षमता कम है।
  • अब देश में रैपिड टेस्टिंग शुरू की गई है। इसके जरिए संदिग्ध संक्रमितों की जल्दी से पहचान हो सकेगी।

32 करोड़ लोगों गरीब कल्याण का पैकेज मिला
वित्त मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि 1.70 लाख करोड़ रुपये के प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज को काफी तेजी से बांटा गया। 13 अप्रैल तक देश के 32 करोड़ से ज्यादा गरीबों को कुल 29,352 करोड़ रुपये की वित्तीय मदद मिल चुकी है। 5.29 करोड़ लोगों को खाद्यान्न दिया गया है। 97.आठ लाख लोगों को उज्जवला योजना के तहत गैस सिलेंडर उपलब्ध कराए गए हैं। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी ईपीएफओ के 2.1 लाख सदस्यों को ईपीएफओ खाते से गैर-वापसी योग्य निकासी का लाभ मिल चुका है, जिसकी राशि 510 करोड़ रुपये है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत अप्रैल में पहली किस्त के तौर पर योजना के 7.47 करोड़ लाभार्थी किसानों के बैंक खातों में 14,946 करोड़ रुपये भेजे जा चुके हैं। वहीं, प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत 19.86 करोड़ महिला खाताधारकों के खातों में 9,930 करोड़ रुपये हस्तांतरित किए जा चुके हैं। मंत्रालय ने कहा है कि वृद्धावस्था पेंशन, विधवा व दिव्यांग पेंशनधारी 2.82 करोड़ लोगों के खातों में 1400 करोड़ रुपये भेजे जा चुके हैं। इसके अलावा, भवन व निर्माण क्षेत्र के 2.17 करोड़ श्रमिकों को वित्तीय सहायता के तौर पर 3071 करोड़ रुपये दिए जा चुके हैं।

 

नोट : ताजातरीन ख़बरों के लिए अभी फॉलो करे NEWSACB7.COM फेसबुक इंस्टाग्राम यूट्यूब और ट्विटर। 

Leave a Reply

%d bloggers like this: