सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट, विदेश से आए 180 जमातियों के मौलाना साद से कनेक्शन की तलाश

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पश्चिमी यूपी में आए तब्लीगी जमात के लोगों और विदेश से आए 180 लोगों की रिपोर्ट तलब कर ली है। वहीं इन 180 जमातियों का मौलाना साद से भी कनेक्शन तलाशा जा रहा है। बताया जा रहा है कि इनके व्हाट्सएम मैसेज के आधार पर भी जांच की जाएगी।

निजामुद्दीन मरकज के आसपास का बीटीएस (बेस ट्रांसमिशन सिस्टम) उठाने के बाद सर्विलांस टीमों ने वहां से पश्चिमी यूपी के अलग- अलग जिलों में पहुंचे तब्लीगी जमातियों की सूची बनाई थी। इनकी संख्या करीब नौ हजार थी, जिनमें मेरठ जोन के आठ जिलों में करीब 5200 जमाती पहुंचे थे। लेकिन इसकी जांच रिपोर्ट अभी तक शासन तक नहीं पहुंचने पर बृहस्पतिवार को सीएम ने इन जमातियों और उनके संपर्क में आए लोगों का रिकॉर्ड तलब कर लिया।

बताया जा रहा है कि इन जमातियों और अन्य लोगों की सीएम द्वारा गठित टीम निगरानी करेगी। एडीजी जोन प्रशांत कुमार के अनुसार शासन को जल्द रिपोर्ट भेजी जाएगी। विदेश के 180 लोगों के मुकदमे दर्ज कर और उनके पासपोर्ट जब्त कर इसकी रिपोर्ट गृह मंत्रालय को भेजी गई है। जिन विदेशी लोगों का क्वारंटीन समय पूरा हो चुका है, स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन के अनुसार उनका क्वारंटीन समय 14 दिन और बढ़ाया गया है।

मेरठ जोन के आठ जिलों में ऐसे फैला था कोरोना

सात देशों बांग्लादेश, इंडोनेशिया, नेपाल, सूडान, थाइलैंड, अफ्रीका और केन्या से आए 180 लोगों और तब्लीगी जमात से आए लोगों से मेरठ जोन के आठ जिलों में कोरोना संक्रमण फैला है। यह बात एडीजी जोन प्रशांत कुमार ने कही थी। एडीजी के अनुसार इन सभी के पासपोर्ट कब्जे में लेकर इनके खिलाफ मुकदमे दर्ज किए गए हैं। वहीं, गृह मंत्रालय को भी इसकी रिपोर्ट भेजी गई है।

तब्लीगी जमात से विदेशियों का गहरा संपर्क बताया गया है। देश-विदेश से काफी संख्या में आए लोग इस जमात में शामिल हुए थे। कोरोना वायरस का संकट अभी गहराया हुआ है, जिसको लेकर देश की स्थिति चिंताजनक है। एसटीएफ यूपी ने दिल्ली निजामुद्दीन तब्लीगी जमात का बीटीएस उठाकर सभी जिलों में भेजा था। जिसको लेकर मेरठ जोन के आठ जिलों मेरठ, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, शामली, बागपत, हापुड़, बुलंदशहर व गाजियाबाद में सर्विलांस टीमें पिछले दो सप्ताह से युद्ध स्तर पर जांच कर रही है। जिसमें खुलासा हुआ कि तब्लीगी जमात और सात देशों से आए लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इन्हीं लोगों के जरिए इन जिलों में कोरोना का संक्रमण फैला है। आठ जिलों में विदेश के करीब 180 लोग अभी रुके हैं। बाकी भेजे जा चुके हैं। खुफिया विभाग की रिपोर्ट में तब्लीगी जमात से जोन के आठ जिलों में करीब 5200 जमाती आने बताए गए हैं।

पुलिस के अनुसार सात देशों से मेरठ जोन में आए लोगों को पुलिस-प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग टीम ने ट्रेस कर लिया है। साथ ही उनके संपर्क में आए लोगों का पता लगाने के लिए प्रत्येक जनपद की टीम काम कर रही है। लेकिन तब्लीगी जमात से आए लोग अभी छिपे हुए हैं, जोकि खतरा बन गए हैं। क्योंकि उनके संपर्क में आए लोगों की संख्या का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है। इसको देखते पुलिस बार-बार अपील कर रही है कि कोई भी जमाती खुद को न छिपाए। वह पुलिस को बताए और अपनी जांच करा ले। उसके खिलाफ कोई भी कानूनी कार्रवाई नहीं होगी। अन्यथा पुलिस को मजबूरन उनके खिलाफ कार्रवाई करनी पड़ेगी।

मेरठ जोन में अब 180 विदेशी, सभी क्वारंटाइन

1. बुलंदशहर में 10, सहारनपुर में 3 बांग्लादेशी मिले

2. मेरठ में नौ, गाजियाबाद 10, बुलंदशहर में 23 और शामली में इंडोनेशिया के सात लोग मिले

3. मेरठ में एक, गाजियाबाद में सात, बागपत में 28 और मुजफ्फरनगर में नेपाल के 13 लोग मिले

4. मेरठ और गाजियाबाद में सूडान के पांच-पांच लोग मिले।

5. थाईलैंड के हापुड़ में नौ, मुजफ्फरनगर व सहारनपुर में 10-10 और शामली में पांच लोग मिले

6. मेरठ में चार और शामली में डिजीबोटी (अफ्रीका) के 10 लोग मिले

7. मेरठ में केन्या का एक और सहारनपुर में 10 नागरिक मिले।

इनसे फैला कोरोना संक्रमण

एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार ने बताया था कि मेरठ जोन के आठ जिलों में विदेश के 180 लोग मिले, जिन्हें क्वारंटाइन किया गया। उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर पासपोर्ट जब्त किए गए। इन विदेशियों में कई लोगों को कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि हुई है। डॉक्टरों की रिपोर्ट के अनुसार इन विदेशी लोगों और तब्लीगी जमात से आए लोगों से दूसरे लोगों को कोरोना संक्रमण फैला है। तब्लीगी जमातियों से भी विदेशी लोगों का संपर्क है। जमातियों की तलाश जारी है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: