Wednesday, July 15, 2020

नई दिल्ली

चक्रवाती तूफान अम्फान आज यानी बुधवार को दोपहर तक पश्चिम बंगाल और ओडिशा में दस्तक देने को तैयार है। महाचक्रवात तूफान अम्फान करीब 185 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से समुद्री तटों से टकराएगा। आशंका जताई जा रही है कि दोपहर से लेकर शाम तक सुपर साइक्लोन अम्फान विकराल रूप धारण कर सकता है और बड़ी तबाही मचा सकता है। सुंदरवन के करीब बांग्लादेश में दीघा और हटिया के बीच टकराने की आशंका है। फिलहाल, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में तेज हवा के साथ बारिश देखने को मिल रही है। साथ ही समुद्र में लहरें भी उठ रही हैं। तो चलिए जानते हैं इस तूफान को लेकर सभी अहम बातें…

यह भी पढ़ें- बारिश, तेज हवाएं और डरावनी समुद्री लहरें… अम्फान के टकराने से पहले VIDEO में देखें कैसा है बंगाल-ओडिशा का नजारा

1. कोरोना वायरस संकट के बीच में अम्फान किसी बड़े आफत से कम नहीं है। प्रशासन ने पहले ही चेतावनी दे दी है कि अम्फान का विकराल रूप न सिर्फ फसलों को बर्बाद करेगा, बल्कि सार्वजनिक संपत्तियों और जान-माल का भी बड़ा नुकसान कर सकता है।

2. मौसम विभाग का अनुमान है कि बुधवार दोपहर से शाम तक यह अम्फान तूफान तेज रफ्तार के साथ ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में पहुंचेगा और तबाही मचा सकता है। संभावित खतरे को देखते हुए राज्य से लेकर केंद्र सरकार और एजेंसियां पूरी तरह अलर्ट पर हैं।

3. तूफान अम्फान का असर पश्चिम बंगाल और ओडिशा में दिखना शुरू हो गया है। बंगाल और ओडिशा में तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू हो गई है। इतना ही नहीं, समुद्र में हाईटाइड भी जारी है। मछुआरों को समुद्र में न जाने की चेतावनी दे दी गई है और तटीय इलाकों के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है।

4. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा है कि पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर, दक्षिण और उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली और कोलकाता जिले प्रभावित हो सकते हैं। जबकि ओडिशा के तटीय जिलों जगतसिंहपुर, केंद्रापाड़ा, भद्रक, जाजपुर और बालासोर में भारी वर्षा और तूफान आएगा।

यह भी पढ़ें- ओडिशा में तूफान के साथ बारिश शुरू, बड़े पैमाने पर तबाही मचा सकता है महाचक्रवात अम्फान

5. अम्फान की तबाही मुख्यरूप से भारत के पश्चिम बंगाल और ओडिशा में ही देखने को मिलेगी। मगर माना जा रहा है कि सिक्किम, असम और मेघालय पर भी इसका असर पड़ सकता है।

6. भारत और बांग्लादेश के तटीय क्षेत्रों में लगभग 4.2 मिलियन लोगों को सुरक्षा स्थान पर स्थानांतरित किया गया है।

7. सोमवार को 700 किलोमीटर तक फैले और लगभग 15 कि. मी. ऊंचाई वाला चक्रवात अम्फान अपने केंद्र में 220 से 230 कि. मी. प्रति घंटे की गति से घूम रहा था। चक्रवात के कारण पश्चिम बंगाल में गंगा के आस-पास वाले इलाकों और उत्तर तटीय ओडिशा इलाकों में भी बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। यह 20 मई को उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम और 21 मई को असम और मेघालय में भारी से बहुत भारी वर्षा का कारण बनेगा।

8. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के प्रमुख एस.एन. प्रधान ने मंगलवार को कहा कि आपात स्थिति से निपटने के लिए पश्चिम बंगाल और ओडिशा में बल की कुल 41 टीमों को तैनात किया गया है। अम्फान से प्रभावित होने वाले दो राज्य ओडिशा और पश्चिम बंगाल में एनडीआरएफ की कुल 41 टीमों को तैनात किया गया है। ओडिशा के सात जिलों में एनडीआरएफ की 15 टीमों को तैनात किया गया है और पांच टीमों को तैयार रखा गया है जबकि पश्चिम बंगाल के छह जिलों में 19 टीमों को तैनात किया गया है जबकि दो टीमों को तैयार रखा गया है।

9. अम्फान ओडिशा में 1999 में तूफान के बाद दूसरा सुपर साइक्लोन (चक्रवाती तूफान) है। वह ऐतिहासिक रूप से सबसे तीव्र चक्रवाती तूफान था। 1999 के सुपर साइक्लोन ने करीब 9,000 से अधिक लोगों की जान ले ली थी।

10. महाचक्रवात से निपटने में दोनों देशों और संबंधित राज्यों का प्रशासनिक अमला पूरी ताकत से जुटा है। सरकारें व एजेंसियां जरूरी सूचनाओं का त्वरित आदान-प्रदान कर रहे हैं। यह दो दशकों में बंगाल की खाड़ी में दूसरा महाचक्रवात है।वर्ष 1999 में ओडिशा में आये महाचक्रवात के बाद अम्फान बंगाल की खाड़ी में यह ऐसा दूसरा चक्रवात है

0 Comments

Leave a Reply

FOLLOW US

INSTAGRAM

YOUTUBE

Advertisement

img advertisement

Archivies

RECENTPOPULAR

Social

%d bloggers like this: