सीए सहित बलहीन समिति पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करने की एसपी से मांग

सीए सहित बलहीन समिति पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करने की एसपी से मांग

newsacb7
newsacb7

काँधला। नगर के एक मंदिर में फर्जी दस्तावेज बनाकर कर लेखा जोखा पेश करने के मामले में पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र देकर कार्रवाई की मांग की गई है

newsacb7
newsacb7
newsacb7
newsacb7

श्री शीतला माता मंदिर के पूजक भृगुवंशी आशुतोष पांडेय ने एसपी शामली को शिकायती पत्र देते हुए आरोप लगाया कि श्री शीतला माता मंदिर की कमेटी का 2004 के बाद नवीनीकरण नहीं हुआ है।

अनियमितताओं के चलते उनके बैंक खाते पर भी रोक लगी है उक्त पूर्व बलहीन मन्दिर समिति के पदाधिकारियों ने वर्तमान तथाकथित पदाधिकारी तरुण अग्रवाल, लोकेश गोयल ,,अमित गर्ग,ईश्वर दयाल कंसल, विक्रम सैनी, राकेश कुमार बंसल ,संजीव अग्रवाल , मोहनलाल चावला ,मनीष गोयल ,ने शामली के एक सीए से मिलकर धोखाधड़ी देने की नीयत से झूठी जारी बैलेंस शीट कूटरचित दस्तावेज तैयार करके मन्दिर संपति को नुकसान पहुंचाया है

फर्जी मूल्यवान प्रतिभूति को बनाने मन्दिर की करोड़ो की संपत्ति पर अवैध कब्जा करने ,कूटरचना करके धोखाधड़ी कर फर्जी कि झूठी जारी बैलेंस शीट तैयार कराई है। जिसमें2004 से 2019 तक प्रतिवर्ष लगभग 60हजार रुपये के हिसाब से से आय व्यय दिखाया है जबकि उक्त रुपया का ना पाऊंचर /रशीद ना ही कोई अन्य रसीद दाखिल की है

जो भी पाउचर, रसीदें बनाए गए सब फर्जी ,जारी है मंदिर में एक भी रुपया इन लोगों ने नहीं लगाया है ना ही इन लोगो का कभी मन्दिर कब्जा रहा है केवल मन्दिर की दुकानों पर कब्जा कर मात्र 365 रुपया किराया कागजो में दिखाया गया

newsacb7
newsacb7

जबकि 5हजार रुपया किराया के हिसाब से दुकाने मन्दिर के आस पास जा रही है जिसकी फॉरेंसिक जांच कराया जाना आवश्यक है।
वर्तमान में बलहीन मन्दिर समिति के अनियमितताओं के चलते मंदिर में दिनांक 30 अगस्त 2019 से सरकारी रिसीवर तत्कालीन उप जिला मजिस्ट्रेट कैराना के आदेश पर नियुक्त है रिशिवर के द्वारा ही मन्दिर में लांखो का कार्य कराया गया है रिशिवर के विरुद्ध उक्त बलहीन समिति ने उच्च न्यायालय इलाहाबाद में रिट स 34622 सन 2019 की जिसमे उनको स्टे नही मिला उक्त सभी लोगो की पूर्व की शिकायतो की वजह से मुझे अपनी जान का खतरा बना हुआ है उक्त लोग मेरे व मेरे परिवार के साथ कभी भी कोई संगीन वारदात कर सकते है
एसपी शामली से मामले में शिकायती पत्र देकर अभियोग पंजीकृत कर कार्रवाई करने की मांग की गई है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: